Ayurveda

आयुर्वेद :

आयुर्वेद तन, मन और आत्‍मा के बीच संतुलन बनाकर स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करता है। आयुर्वेद में न केवल उपचार होता है बल्कि यह जीवन जीने का ऐसा तरीका सिखाता है, जिससे जीवन लंबा और खुशहाल होता है। आयुर्वेद के अनुसार शरीर में वात, पित्‍त और कफ जैसे तीनों मूल तत्‍वों के संतुलन से कोई भी बीमारी आप तक नहीं आ सकती। लेकिन जब इनका संतुलन बिगड़ता है, तो बीमारी शरीर पर हावी होने लगती है और आयुर्वेद में इन्‍हीं तीनों तत्‍वों का संतुलन बनाया जाता है। साथ ही आयुर्वेद में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने पर बल दिया जाता है ताकि किसी भी प्रकार का रोग न हो। आयुर्वेद में विभिन्‍न रोगों के इलाज के लिए हर्बल उपचार, घरेलू उपचार, आयुर्वेदिक दवाओं, आहार संशोधन, मालिश और ध्‍यान का उपयोग किया जाता है।

What is ayurveda – Ayurveda in hindi – Basic principals of ayurveda

  • वात दोष: जिसमे वायु और आकाश तत्व प्रबल होते हैं।
  • पित्त दोष: जिसमे अग्नि दोष प्रबल होता है।
  • कफ दोष: जिसमे पृथ्वी और जल तत्व प्रबल होते हैं।

ayrveda shloka hitahitam sukham

आयुर्वेद के बारे में विस्तृत रूप से जानने के लिए नीचे वीडियो देखें:

https://www.youtube.com/watch?v=SeC3OxHlLsQ&t=28s

और भी जानें:

What is ayurveda – Ayurveda in hindi – Basic principals of ayurveda