Ban on cutting umbilical cord | शिशु जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने पर लगेगी रोक

CUTTING UMBILICAL CORD BANNED JUST AFTER BIRTH

Ban on cutting umbilical cord | शिशु जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने पर लगेगी रोक

Ban on cutting umbilical cord just after birth:

बच्चों का बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार शिशु के जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने की प्रचलित आदत पर रोक लगाने में जुट गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर गुजरात का शिशु जन्म मॉडल अपनाने की सलाह दी है। इसमें मां के शरीर से बाहर आने तक बच्चे के शरीर से लगे हुए नाल को नहीं काटा जाता। इससे बच्चे को अधिक मात्रा में ऑक्सीजन मिलता है और बच्चे को कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। शिशु जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने पर लगेगी रोक

स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक मनोज झालानी की ओर से लिखे पत्र में कहा गया है कि जन्म के बाद शिशुओं का नाल विलंब से काटने से बच्चे को कई लाभ होते हैं। इसमें अधिक आयरन की उपलब्धता, प्रतिरोधक क्षमता और संज्ञानात्मक विकास शामिल हैं। पत्र में कहा गया है कि इस योजना का गुजरात में सफलता पूर्वक संचालन हो रहा है।

यह भी पढ़ें:धौनी ने कराया बच्ची का ‘अन्नप्राशन’ VIDEO दिल जीत लेगा

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के इसी सप्ताह होने जा रहे सम्मेलन में इसके बारे में और जानकारी दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशानिर्देशों के मुताबिक, शिशु के जन्म के कम से कम एक मिनट बाद नाल को काटना चाहिए। गुजरात में इससे एक कदम और आगे बढ़ते हुए गर्भनाल के बाहर आने तक नाल नहीं काटी जाती। इसका सकारात्मक असर बच्चों के स्वास्थ्य पर दिख रहा है। अब मंत्रालय चाहता है कि इसे पूरे देश में लागू किया जाए। शिशु जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने पर लगेगी रोक

 

एम्स दिल्ली के पिडियाट्रिक विभाग के अध्यक्ष और नेशनल न्यूनटॉलजी फोरम ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. अशोक देवरारी ने विलंब से नाल काटने को ज्यादा बेहतर प्रक्रिया बताते हुए कहा कि पूरी दुनिया में शिशु जन्म में यही प्रक्रिया अपनाई जाती है। इसे लेकर डब्ल्यूएचओ की स्पष्ट गाइडलाइन है कि जन्म के एक मिनट से तीन मिनट के बीच नाल काटना चाहिए। इससे बच्चे के शरीर में पर्याप्त रक्त बन जाता है और उसका ब्लड प्रेशर सही रहता है।

देर से नाल काटने के लाभ:

  1. – बच्चे के शरीर में पर्याप्त रक्त बन जाता है
  2. – बच्चे का ब्लड प्रेशर और आयरन सही रहता है
  3. – बच्चे के मस्तिष्क को अधिक ऑक्सीजन मिलता है
  4. – बच्चे का संज्ञानात्मक विकास बेहतर होता है
  5. – बच्चे की प्रतिरोधिक क्षमता बढ़ जाती है
  6. – प्री-मैच्योर होने पर भी ब्रेन हैमरेज नहीं होता है
  7. – आगे रक्तअल्पता की शिकायत भी कम आती है

यह भी पढ़ें:अफवाहें : कहीं आपके आस पास तो नहीं – सच्चाई क्या…

सवाल भी उठा रहे विशेषज्ञ?

गर्भनाल बाहर आने तक नाल को नहीं काटने के गुजरात मॉडल को अपनाने के सरकार की एडवाइजरी पर कुछ विशेषज्ञ सवाल भी उठा रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि जब डब्ल्यूएचओ का एक परखा हुआ मॉडल (जन्म के एक मिनट से तीन मिनट के बीच नाल काटना) मौजूद है, तो मात्र एक राज्य में किए गए प्रयोग के आधार पर नया मॉडल क्यों आजमाया जाए? Ban on cutting umbilical cord just after birth शिशु जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल काटने पर लगेगी रोक

Материалы по теме:

Symptoms of corona virus | कोरोना वायरस के इन 7 लक्षणों को नज़रअंदाज़ ना करें
Symptoms of corona virus in hindi: कोरोना वायरस ज़बरदस्त तरीके से भयानक आपातकाल जैसी स्थिति में तबदील होता जा रहा है। अभी तक दुनिया भर ...
Dengue से रहेंगे सेफ – अपनाए ये 6 आसान घरेलू नुस्खे
शुरुआत में सामान्य-सा लगनेवाला यह बुखार देरी या गलत इलाज से जानलेवा साबित हो सकता है। वक्त पर सही इलाज हो तो हालात कंट्रोल ...
Virya patla hona in Hindi | वीर्य पतला होने का कारण व इलाज
आजकल बहुत से ऐसे लोग हैं जिनका वीर्य पतला हो चूका है, पर घबराएं नहीं इसका इलाज घरेलू स्तर पर भी सम्भव है| आइए ...
अखरोट खाने से कम हो सकता है डिप्रेशन:
Eating walnut may cure depression: अखरोट खाने से कम हो सकता है डिप्रेशन: अगर आप, आपका कोई दोस्त या परिवार का कोई सदस्य अवसाद यानी डिप्रेशन ...
जीका वायरस की जांच के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने मध्यप्रदेश भेजा एक केंद्रीय दल
नई दिल्ली: जयपुर और अहमदाबाद के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अब मध्य प्रदेश में जीका विषाणु मामलों की खबरों के सत्यापन के लिए ...

About the author

Leave Your Comment

Theme Settings

Please implement FLYTHEME_Options_pages_select::getCpanelHtml()

Please implement FLYTHEME_Options_editor::getCpanelHtml()