क्या गुप्त रोग लाइलाज होते हैं | Is Sexual Disorders are Non-Treatable

0
471 views
क्या गुप्त रोग, लाइलाज, होते हैं, Is Sexual Disorders are Non-Treatable

क्या गुप्त रोग लाइलाज होते हैं | Is Sexual Disorders are Non-Treatable :

यदि किसी गुप्त रोग की आशंका हो या खुद को सैक्स करने में सक्षम न समझें तो तुरंत किसी योग्य यौन रोग विशेषज्ञ से सलाह लें, यकीनन गुप्त रोग का इलाज है:

Also Read : छोटे लिंग से हैं परेशान तो यह है असली समाधान

सैक्स का जिक्र आते ही युवा मन में एक विशेष प्रकार की सरसराहट होने लगती है. मन हसीन सपनों में खो जाता है, क्योंकि यह प्रक्रिया है 2 जवां दिलों के आपसी मिलन की |

आम धारणा | Normal assumptions :

अक्सर युवा इस तरह की समस्या को अपनी शारीरिक कमजोरी या गुप्त रोग मान लेते हैं और उन्हें लगता है कि वे कभी शारीरिक संबंध स्थापित नहीं कर पाएंगे, कई सारे युवा अपने मन की बात किसी से शर्म के कारण नहीं कर पाते और हताशा का शिकार हो कर आत्महत्या तक कर लेते हैं, कुछ युवा नीमहकीमों या झोलाच्छाप डाक्टरों के चक्कर में पड़ जाते हैं जो उन्हें पहले नामर्द ठहराते हैं और फिर शर्तिया इलाज की गारंटी दे कर लूटते हैं,

Also Read : Top 10 Home Remedies for Piles that are Effective

युवाओं को समझना चाहिए कि ऐसी समस्या मानसिक स्थिति के कारण उत्पन्न होती है, डी.एन.एस. आयुर्वेदा के प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य डा.नदीम अहमद  का कहना है कि ‘पहली रात में सैक्स न कर पाना एक आम सी समस्या है, क्योंकि युवाओं को सैक्स की जानकारी नहीं होती, वे सैक्स को भी अन्य कामों की तरह निबटाना चाहते हैं, जबकि सैक्स में धैर्य, संयम और आपसी प्रेम अत्यंत आवश्यक होता है,

सैक्स से पहले फोरप्ले जरूरी है, इस से रक्त संचार तेज होता है और पुरुष के अंग में पर्याप्त कसाव या तनाव आता है, कसाव आने पर ही सैक्स क्रिया का आनंद आता है और वह पूर्ण भी तभी होती है. इसलिए युवाओं को सैक्स की समस्या को गुप्त रोग नहीं समझना चाहिए, यदि फिर भी कोई समस्या है तो विश्ेषज्ञ की राय ज़रूर लें,

दोस्तों आइए, एक नजर डालते हैं कुछ खास यौन संबंधी रोगों पर :

शीघ्रपतन | Premature Ejaculation :

अकसर युवाओं में शीघ्रपतन की समस्या पाई जाती है, यह कोई बीमारी नहीं है बल्कि दिमागी विकारों व कुछ हद तक दौर्बलयता की वजह से ऐसा होता है, इस समस्या में युवा अपने पार्टनर को पूरी तरह से संतुष्ट करने से पहले ही स्खलित हो जाते हैं, यह बीमारी वैसे तो दिमागी नियंत्रण से ठीक हो जाती है, लेकिन अगर समस्या तब भी बनी रहे तो किसी योग्य चिकित्सक से परामर्श ले कर इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है,

Dhat rog ka ilaj in hindi, dhat, dhat ka ilaj, dhat rog, gupt rog, spermatorrhoeaडी.एन.एस. आयुर्वेदा क्लिनिक
गोलागंज, लखनऊ
9918584999, 9918515999

नपुंसकता | Erectile Dysfunction :

नपुंसकता जैसी समस्या होने के कई सारे कारण होते हैं, इस रोग से ग्रसित लोग स्त्री को शारीरिक सुख देने में सक्षम नहीं होते और न ही संतान पैदा कर पाते हैं, कुछ युवाओं में क्रोमोसोम्स की कमी भी नपुंसकता का कारण होती है, युवाओं को शादी से पहले पता ही नहीं चलता कि उन के क्रोमोसोम्स या तो सक्रिय नहीं हैं या उन में दोष है,

Also Read : Penis Enlargement | Ling Ko Bada Karna | लिंग को बड़ा

कुछ युवा शुरू में नपुंसक नहीं होते पर अन्य शारीरिक विकारों की वजह से वे सैक्स क्रिया सही तरीके से नहीं कर पाते, इसलिए उन को नपुंसक की श्रेणी में रखा जाता है, आजकल तो इंपोटैंसी टैस्ट भी उपलब्ध हैं, अगर ऐसी कोई समस्या है तो इस टैस्ट को अवश्य कराएं,

पुरुष हारमोंस की कमी | Lack of Male Hormones :

पुरुषों में टैस्टेटोरोन नाम का हारमोन बनता है, यही हारमोन पुरुष होने का प्रमाण है कभी कभी किसी वजहों से टैस्टेटोरोन का स्राव होना बंद हो जाता है तो वह व्यक्ति इस रोग का शिकार हो जाता है, 50 से 55 वर्ष की आयु के बाद इस हारमोन के बनने की गति धीमी पड़ जाती है इसलिए ऐसे व्यक्ति सैक्स क्रिया में जोश से वंचित रह जाते हैं,

सिफलिस | Syphilis :

यह वाकई एक गुप्त रोग है जो ज़्यादातर अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने से होता है, अकसर यह रोग सफाई न रखने या ऐसे पार्टनर से सैक्स संबंध कायम करने से होता है जो अलग अलग लोगों से सैक्स संबंध बनाता है, इस रोग में यौनांग पर दाने निकल आते हैं, कभी कभी इन दानों से खून या मवाद का रिसाव तक होता रहता है, यदि आप के यौन अंग पर ऐसे दाने उभरते हैं तो तुरंत त्वचा व गुप्त रोग विशेषज्ञ से राय लें और इसका उपचार कराएं, इस समस्या का इलाज संभव है,

Also Read : Kidney stone treatment | केवल 1 हफ्ते में गला कर निकाल

जिस तरह पुरुषों में यौन या गुप्त रोग होते हैं, उसी तरह महिलाओं में भी गुप्त रोग हो सकते हैं. अकसर बहुत सी युवतियों की सैक्स में रुचि नहीं होती, सैक्स के नाम से वे घबरा जाती हैं ऐसी युवतियां या तो बचपन में किसी हादसे का शिकार हुई होती हैं या फिर किसी गुप्त रोग से पीडि़त होती हैं, यहां तक कि वे शादी करने तक से घबराती हैं,

किसी भी प्रकार के गुप्त रोगों के शत प्रतिशत उपचार के लिए संपर्क करें:

महिलाओं के कुछ खास गुप्त रोग :

बांझपन | Infertility :

युवतियों में 12-13 वर्ष की उम्र से माहवारी आनी शुरू हो जाती है, कभी कभी यह 1-2 साल आगे पीछे भी हो जाती है पर ऐसी भी युवतियां हैं जिन के माहवारी होती ही नहीं, ऐसी युवतियां बांझपन का शिकार हो जाती हैं, स्त्री बांझपन भी पुरुष नपुंसकता की तरह जन्मजात रोग है, बहुतों में अनेक शारीरिक व्याधियों के चलते भी हो जाती है लेकिन वह अस्थायी होती है और इलाज से ठीक भी हो जाता है, अगर किसी किशोरी को माहवारी की समस्या है तो उसे तुरंत किसी योग्य स्त्रीरोग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए,

जननांगों में खुजली | Etching in reproductive organs:

जब से समाज में खुलापन आया है युवा मस्ती में कब हदें पार कर देते हैं पता ही नहीं चलता. चूंकि इन्हें जननांगों की साफसफाई कैसे रखी जाए, यह पता नहीं होता इसलिए ये खुजली जैसे यौन संक्रमणों का शिकार हो जाते हैं. यदि बौयफ्रैंड को कोई यौन संक्रमण है तो गर्लफ्रैंड को इस यौन संक्रमण से बचाया नहीं जा सकता. अत: दोनों को ही शारीरिक संबंध बनाने से पहले अपने यौनांगों की अच्छी तरह सफाई कर लेनी चाहिए.

एंड्रोजन हारमोन का अभाव |Lack of Androgen Hormones :

जिस तरह पुरुषों में पुरुष हारमोन टैस्टेटोरोन होता है, उसी तरह युवतियों में एंड्रोजन हारमोन होता है. जिन युवतियों में इस हारमोन की कमी होती है, उन में सैक्स के प्रति उत्साह कम देखा गया है, क्योंकि यही हारमोन सैक्स क्रिया को भड़काता है. यदि कोई युवती एंड्रोजन हारमोन की कमी का शिकार है तो उसे तुरंत गाइनोकोलौजिस्ट से राय लेनी चाहिए. यह कोई लाइलाज रोग नहीं है.

लिकोरिया | Leucorrhoea :

लिकोरिया गंदगी की वजह से होने वाला एक महिला गुप्त रोग है. इस रोग में योनि से सफेद बदबूदार पानी का स्राव होता रहता है, जिस से शरीर में कैल्शियम व आयरन की कमी हो जाती है. इस रोग से बचने के लिए युवतियों को अपने गुप्तांगों की नियमित सफाई रखनी चाहिए और किसी दूसरी युवती के अंदरूनी वस्त्र नहीं पहनने चाहिए. लिकोरिया की शिकार युवतियों को तुरंत लेडी डाक्टर से सलाह लेना चाहिए, वरना यह रोग बढ़ कर बेकाबू हो सकता है.

Also Read : Dhat rog ka ilaj karan aur lakshan in hindi | धात

सैक्स में भ्रांतियां न पालें :

सैक्स की अज्ञानता की वजह से अकसर युवकयुवतियां सैक्स को ले कर तरहतरह की भ्रांतियां पाल लेते हैं.

हस्तमैथुन | Masturbation :

यह एक स्वाभाविक क्रिया है, अकसर युवकों को हस्तमैथुन की आदत पड़ जाती है, ज्यादा हस्तमैथुन करने वाले युवकों को लगता है कि उन का अंग छोटा या टेढ़ा हो गया है और वे विवाह के बाद अपनी पत्नी से शारीरिक संबंध बनाने में कामयाब नहीं होंगे,

कई नीमहकीम भी युवकों को डरा देते हैं कि हस्तमैथुन से अंग की नसें कमजोर पड़ जाती हैं और वे अपनी पत्नी को खुश नहीं रख सकेंगे, पर वास्तव में ऐसा नहीं है. हस्तमैथुन शरीर की आवश्यकता है, शरीर में वीर्य बनने पर उस का बाहर आना भी जरूरी है, इस में किसी प्रकार की कोई बुराई नहीं है, युवक ही नहीं युवतियां भी हस्तमैथुन करती हैं, डाक्टरों का भी मत है कि हस्तमैथुन का कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ता,

ज्यादा सैक्स सेहत के लिए हानिकारक :

अकसर लोगों को यह कहते सुना जाता है कि ज्यादा सैक्स सेहत के लिए हानिकारक है पर ऐसा बिलकुल भी नहीं है. बल्कि सैक्स से महरूम रहना सेहत पर असर डालता है, सैक्स से मानसिक थकावट कम होती है, चित्त प्रफुल्लित रहता है जो सेहत के लिए अत्यंत जरूरी है,

Also Read : लिंग में ढीलापन, लिंग मे तनाव ना आना | Ling mein dheelepan ka karan

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है, यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से ज़रूर परामर्श करें, डी.एन.एस.आयुर्वेदा इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here