Leucorrhoea treatment in hindi | ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

0
399 views
Leucorrhoea treatment in hindi, ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

ल्यूकोरिया / सफेद पानी / श्वेत प्रदर के लक्षण, कारण व उपचार | Leucorrhoea / White discharge causes, symptoms and treatment in hindi:

महिलाओं में कई तरह के रोग सामान्य बात हो गए। हम कई तरह के इलाज भी कराते है परह क्या आप जानते है कि की ऐसी समस्याएं होती है जिनको रोग नहीं समझना चाहिए। यह कुछ मामलो में योनि से सफेद पानी निकलता है सफ़ेद पानी या स्वेत प्रदर में शरीर मे कमजोरी आती है, चक्कर आता है, बदन में दर्द होता है। Leucorrhoea treatment in hindi | ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

ल्यूकोरिया ( Leucorrhoea ) को कुछ लोग लिकोरिया (Licoria) नाम से भी पुकारते हैं। इस बीमारी में योनि से चिपचिपा, दुर्गन्धयुक्त, गाढ़ा पानी बहता है। जब यह बीमारी किसी महिला को होती है, तो महिला शुरुआत में ल्यूकोरिया के बारे में किसी को नहीं बताती है। नतीजा यह होता है कि बीमारी और बड़ी हो जाती है। ऐसा नहीं करना चाहिए। ल्यूकोरिया के इलाज के कई सारे घरेलू उपाय हैं, जिनका उपयोग कर आप ल्यूकोरिया का इलाज कर सकती हैं।

ल्यूकोरिया की आयुर्वेदिक दवा ऑनलाइन मंगाने के लिए क्लिक करें

यह भी पढ़ें: सेक्स पावर बढ़ाने के कुछ ज़बरदस्त घरेलू उपाय | Home remedies for sex power

चेहरे की रौनक ख़त्म सी हो जाती है। सफ़ेद पानी जिसको श्वेत प्रदर भी कहा जाता है, महिलाओं का कष्ट दायक रोग है, जिसमे महिलाओं की योनी से सफ़ेद तरल पदार्थ निकलता है, और बहुत गन्दी बदबू आती है, इस रोग से ग्रसित रोगिणी उदास और चिडचिडी रहती है। यदि आपको भी यह समस्या है तो, आपको निराश होने की जरुरत नहीं है यहाँ आपको कुछ सरल सफ़ेद पानी के रामबाण घरेलु नुस्खे बताने जा रहे है।

For treatment of Leucorrhoea Contact now:

DNS Ayurveda Clinic, Lucknow

9918584999, 9918536999

ल्यूकोरिया की आयुर्वेदिक दवा ऑनलाइन मंगाने के लिए क्लिक करें

आयुर्वेद में ल्यूकोरिया को श्वेत प्रदर कहा गया है। इसे एक स्वतंत्र रोग ना कहकर योनि के विभिन्न रोगों का लक्षण कहा गया है। जो महिलाएं अस्वस्थ आहार, अधिक नमकीन, खट्टे, चटपटे, प्रदाही, चिकने तथा मांस-मदिरा का अधिक सेवन करती हैं, उनको ल्यूकोरिया होने की संभावना बढ़ जाती है। Leucorrhoea treatment in hindi | ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

ल्यूकोरिया, सफेद पानी, श्वेत प्रदर के लक्षण, कारण व उपचार, Leucorrhoea, White discharge causes, symptoms and treatment in hindi

ल्यूकोरिया (श्वेत प्रदर) क्या है? ( What is Leucorrhoea in hindi ):

ल्यूकोरिया को सामान्य भाषा में सफेद पानी या श्वेत प्रदर भी कहा जाता है। यह स्त्रियों में होने वाली एक आम बीमारी है। इसमें योनि से सफेद रंग का गाढ़ा और दुर्गन्धयुक्त पानी निकलता है। किसी तरह का इन्फेक्शन होने पर स्राव पीले, हल्के नीले या हल्के लाल रंग का, और बहुत चिपचिपा एवं बदबूदार होता है। यह किसी योनि या गर्भाशय से संबंधित रोग का लक्षण भी हो सकता है। ल्यूकोरिया का उपचार ना करने पर महिला का स्वास्थ्य कमजोर हो सकता है। अलग-अलग महिलाओं में स्राव की मात्रा एवं समयावधि अलग-अलग होती है। इसके कारण प्रजनन अंगों में सूजन आ जाती है।

यह भी पढ़ें: Sex में अध‍िकतर पुरुषों को हो जाती है ये समस्‍या, आजमाएं 5 उपाय

ल्यूकोरिया के प्रकार ( Types of Leucorrhoea in hindi):

ल्यूकोरिया के दो प्रकार के होते हैंः-

  • स्वभाविक योनिस्राव
  • अस्वभाविक योनिस्राव

स्वभाविक ल्यूकोरिया (श्वेत प्रदर):

मासिक चक्र के दौरान योनि से पानी जैसा बहने वाला दुर्गन्धरहित चिपचिपा, पतला और सामान्य माना जाता है। महिलाओं में अण्डोत्सर्ग के दौरान यह स्राव बढ़ जाता है। यह स्त्री के शरीर की सामान्य प्रक्रिया है। इसमें किसी उपचार की जरूरत नहीं होती है। केवल उचित आहार-विहार का पालन करना चाहिए।

अस्वभाविक ल्यूकोरिया (श्वेत प्रदर):

ऐसा बैक्टेरियल इन्फेक्शन होने पर देखा जाता है। स्राव का रंग असामान्य गाढ़ापन लिए हुए एवं दुर्गन्धयुक्त होता है। यह यीस्ट इन्फेक्षन भी हो सकता है। Leucorrhoea treatment in hindi | ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

यह भी पढ़ें:  धात रोग क्या है – बहोत आसान इसका इलाज – Spermatorrhoea

ल्यूकोरिया के लक्षण ( Symptoms of Leucorrhoea in hindi ):

ल्यूकोरिया की पहचान इन लक्षणों से की जा सकती हैः-

    1. योनिमार्ग में तीव्र खुजली एवं चुनचुनाहट होना।
    2. कमर में दर्द बना रहना।
    3. कमजोरी महसूस होना एवं चक्कर आना।
    4. बार-बार पेशाब आना और पेट में भारीपन बना रहना।
    5. भूख ना लगना एवं जी मिचलाना।
    6. आखों के नीचे काले घेरों का पड़ना।
    7. थोड़ा-सा मेहनत करने पर भी आंखों के सामने अंधेरा छा जाना एवं कभी-कभी चक्कर आना।
    8. पिंडलियों में खिंचाव एवं शरीर भारी रहना।
    9. चिड़चिड़ापन रहना।

ल्यूकोरिया के कारण ( Causes of Leucorrhoea in hindi ):

मासिक धर्म में पहले या बाद में थोड़ी मात्रा में सफेद पानी बहना सामान्य बात है, लेकिन अधिक मात्रा में, नियमित रूप से पीला या नीलापन लिए स्राव आने लगे तो ये कारण हो सकते हैंः-

    • अविवाहित महिलाओं में यह पोषण की कमी, योनि की अस्वच्छता, खून की कमी और तला हुए तेज मसालेदार भोजन करने से होता है।
    • योनि में ‘ट्रिकोमोन्स वेगिनेल्स’ नामक बैक्टीरिया के कारण ल्यूकोरिया होता है।
    • बार-बार गर्भपात होना या कराना।
    • डायबिटीज से ग्रस्त महिलाओं की योनि में फंगल यीस्ट नामक संक्रामक रोग के कारण ल्यूकोरिया होता है।
    • असामान्य यौन सम्बन्धों से होने वाले संक्रमण के कारण।
    • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होने के कारण।
    • तनाव एवं अत्यधिक मेहनत करने के कारण।
    • कॉपर-टी लगा हुआ होने पर।

ल्यूकोरिया को ठीक करने के अन्य घरेलू उपचार ( Home remedies for Leucorrhoea in hindi ):

    • दालचीनी, सफेद जीरा, अशोक छाल और इलायची के बीज को पानी में उबाल कर काढ़ा बना लें। इसे ठण्डा होने के बाद छान लें। अब इस पानी से दिन में दो बार योनि को धोएं।
    • अपने आहार में दही का इस्तेमाल करें। दही में रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता होती है, जो शरीर में संक्रमण को कम करती है।
    • गुलाब के पत्तों को पीस कर दिन में दो बार एक चम्मच दूध के साथ लें।
    • सफेद मूसली के चूर्ण में इसबगोल मिलाकर दूध के साथ सेवन करें।
    • नियमित रूप से गाजर, मूली एवं चुकंदर के रस का सेवन करें।

यह भी पढ़ें: अच्छी खबर : इस दवा से दूर हो जायेंगे सेक्स संबंधी सारे रोग

ल्यूकोरिया में आपका खान-पान ( Diet during Leucorrhoea ):

ल्यूकोरिया के दौरान आपका खान-पान ऐसा होना चाहिए :

    • अधिक नमक एवं मसालेदार भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए।
    • जंक फूड एवं बासी भोजन का नहीं खाना चाहिए।
    • फल एवं रेशेदार सब्जियों को अधिक से अधिक अपने आहार में शामिल करें।
    • पौष्टिक भोजन लें।

ल्यूकोरिया / सफेद पानी / श्वेत प्रदर का इलाज करने के लिए संपर्क करें:

डी. एन. एस. आयुर्वेदा क्लिनिक, लखनऊ

9918584999, 9918536999

ल्यूकोरिया रोग में आपकी जीवनशैली ( Lifestyle in Leucorrhoea in hindi ):

ल्यूकोरिया के दौरान आपकी जीवनशैली ऐसी होनी चाहिए : Leucorrhoea treatment in hindi | ल्यूकोरिया का इलाज इन हिन्दी

    • शरीर को साफ रखें। योनिमार्ग को अच्छी प्रकार से पानी से साफ करें।
    • अंतवस्त्र ( Undergarments ) सूती कपड़ों को पहने। दिन में दो बार इन्हें बदलें।
    • गर्भपात के लिए अधिक दवाइयों का सेवन ना करें।
    • मासिक धर्म के समय साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।
    • हर 4-6 घण्टे में पैड बदलते रहें।
    • स्टरलाइज पैड्स का इस्तेमाल करें।

यह भी पढ़ें: लिंग के ढीलेपन की दिक्कत | Penis looseness problem

ल्यूकोरिया की बीमारी में डॉक्टर से कब सम्पर्क करें ( Doctor for Leucorrhoea ):

इन अवस्था में डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए :

  • यदि योनि से लंबे समय तक स्राव होता रहे, तथा बहुत अधिक खुजलाहट एवं जलन होती हो।
  • स्राव का रंग पीला, हल्का लाल या हल्का नीला हो।
  • अधिक चिपचिपा एवं दुर्गन्धयुक्त हो तो यह इन्फेक्शन को दर्शाता है। ऐसे में महिला में कमजोरी एवं अन्य शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें: छोटे लिंग से हैं परेशान तो यह है असली समाधान | Penis Size Problem

यह भी पढ़ें : Male Sexual Problems in Hindi | पुरुषों के गुप्त रोग व सेक्स समस्या

 

ल्यूकोरिया / सफेद पानी / श्वेत प्रदर का इलाज करने के लिए संपर्क करें:

डी. एन. एस. आयुर्वेदा क्लिनिक, लखनऊ

9918584999, 9918536999

 

Facebook Page: Click here

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here