लिंग के साइज़ संबंधित आश्चर्यजनक टिप्स – Penis enlargement tips in Hindi

लिंग लंबा मोटा करने की आयुर्वेदिक दवा

कई रोगी ऐसे होते हैं, जो लिंग छोटा या पतला होने के कारण हीनभावना से ग्रस्त हो जाते हैं। ऐसे पुरूष स्त्री के पास जाने से भय और संकोच करने लगते हैं। वास्तव में लिंग का आकार छोटा होना या पतला होना कोई मायने नहीं रखता। लिंग लंबा मोटा करने की आयुर्वेदिक दवा

Sex Capsules    Sexologist doctor near me, Gupt Rog doctor near me, Gupt Rog doctor in Lucknow, Gupt Rog doctor in Delhi, Best Sexologist in Lucknow, Sexologist in Lucknow, Best Sexologist in UP, Erectile dysfunction Treatment in lucknow, Sexologist, Premature Ejaculation Treatment in lucknow , Loss of Libido Treatment in lucknow, Gupt Rog Treatment in lucknow, Sexologist in up , सेक्सोलॉजिस्ट इन यूपी , गुप्त रोगों का इलाज , Sexologist in Cantonment, Lucknow Sex Education Specialists in Husainabad, Lucknow Erectile Dysfunction Treatment Doctors in Charbagh, Lucknow Erectile Dysfunction Treatment Doctors in Jankipuram Vistar, Lucknow Sex Education Specialists in Indra Nagar, Lucknow Sexologist in Faizabad Road, Lucknow Sexologists in Mall Avenue, Lucknow Sex Education Specialists in Civil Lines, Lucknow Sexologists in LDA Colony, Lucknow Sex Education Specialists in University Road, Lucknow, Sexologist in Aminabad, Sexologist in Alamnagar, Sexologist in Sardar Bazar, Sexologist in Rajajipuram, Sexologist in Hazratganj, Sexologist in Wazirganj, Sexologist in Aliganj, Sexologist in Ghazipur, Sexologist in Sadar Bajar, Sexologist in Indira Nagar

लिंग छोटा हो या पतला इसका महत्व नहीं है। महत्व है- मैथुन शक्ति का।

infertility sucks, infertility treatment male infertility, Napunsakta ka ilaj in hindi, नपुंसकता, नमार्दगी, लिंग समस्या, सेक्स समस्या, हर्बल उपचार, top 10 tips before marriage

मैथुन शक्ति जितनी प्रबलता से सम्पन्न होगी, स्त्री उतनी ही संतुष्ट होती है। स्वयं पुरूष को भी तृप्ति प्राप्त हो जाती है। लिंग में भरपूर कठोरता तथा स्तम्भन शक्ति के बल पर ही यौन आनंद तृप्ति निर्भर है, छोटे या पतले लिंग से नहीं। छोटा या पतला लिंग भी यदि पूर्ण कठोर हो तो मैथुन आनंद उतना ही प्राप्त होता है, जितना बड़े तथा मोटे लिंग से मैथुन आनंद व तृप्ति प्राप्त होती है। छोटे तथा पतले लिंग को बड़ा तथा मोटा बनाने के अति उपयोगी आयुर्वेदिक चिकित्सा नीचे सविस्तार उल्लेख की जा रही है। प्रस्तुत की जा रही औषधि योगों में से कोई भी एक योग पीड़ित रोगी को प्रयोग करने का निर्देश दें।

यह भी पढ़ें:काम शक्ति का हास और आयुर्वेदिक उपचार

प्रमुख आयुर्वेदिक योग इस प्रकार है:

1. शतावर , सफेद मूसली , मिस्री , काली मूसली , सालम मिस्री , बहमन सुर्खलाल , सफेद बहमन , तौदरी बड़ी , तौदरी छोटी , जायफल , सोंठ  , इन्द्रयव , सुखारी बीज , जावित्री , कुलंजन ।

इसके प्रयोग से कामशक्ति बढ़ती है। रोगी बलवीर्य से परिपूर्ण शक्तिशाली हो जाता है। यह योग स्तम्भन शक्ति भी बढ़ा देता है, जिससे आशातीत आनंद तृप्ति की प्राप्ति होती है। 6 ग्राम चूर्ण में 12 ग्राम शहद मिलाकर सेवन करने का निर्देश दें। ऊपर से दूध पीने की सलाह भी दें। दूध पीने से अधिक लाभ की आशा की जा सकती है।

2. सूखे आंवलों का कपड़छान चूर्ण , तालमखाना चूर्ण , स्वर्णयुक्त योगेन्द्र रस , त्रिबंग भस्म।
उपरोक्त योग अति उत्तम फलदायक सिद्ध है।

यह भी पढ़ें:Causes of Hair Loss and Special Tips

इसके प्रयोग से नपुंसकता-नामर्दी पर भी आशातीत प्रभाव पड़ता है और रोगी मैथुन आनंद तृप्ति प्राप्त करता है। यह स्तम्भन शक्ति बढ़ाने वाला योग भी है। यह योग दिन में 2 बार सुबह-शाम प्रयोग करने का निर्देश दें। इससे बल-वीर्य बढ़ता है। बल-वीर्य बढ़ने रोगी कांतिवान हो जाता है। इस योग की औषधियों को एकत्र कर शहद के साथ मिलाकर प्रयोग कराया जाता है। प्रयोग के बाद दूध की सलाह भी दें।

3. छोटी इलायची का चूर्ण , बंग भस्म , लौंग का चूर्ण , पीपल का चूर्ण ।
यह योग सर्वोत्तम शक्तिशाली उच्चकोटि का प्रभाव उत्पन्न कर यह योग नपुंसकता नाशक भी है। वीर्य बढ़ाने में भी यह सहायक सिद्ध होता है। वीर्य गाढ़ा हो जाता है, जिससे रोगी की स्तम्भन शक्ति भी विकसित होने लगती है। वीर्य के तमाम दोष इस योग के प्रयोग से दूर हो जाते हैं।

4. जायफल , जावित्री , अकरकरा , अरण्ड के बीज , पुराना गुड़ , तिल , शहद , बिनौलों की गिरी , कड़वा कूट, पुराना नारियल।

यह भी पढ़ें: संभोग से पहले ना करें इन आहार का सेवन

यह योग अति उपयोगी, असरकारक एवं श्रेष्ठ लाभ प्रदान करता है। इस पोटली के प्रयोग से लिंग के अंदर आश्चर्यजनक उत्तेजना-शक्ति का संचार भी होने लगता है।

5. अश्वगंधा कैप्सूल, शिलाजीत कैप्सूल।
उपरोक्त दोनों कैप्सूल दिन में 2-3 बार अथवा आवश्यकतानुसार प्रयोग करायें। यह कैप्सूल बल-वीर्यवर्धक गुण सम्पन्न है। लिंग पर्याप्त शक्तिशाली, सुदृढ़ तथा बलवान हो जाता है। रोगी को मैथुन तृप्ति प्राप्त होती है।
अश्वगंधारिष्ट , बलारिष्ट ।

उपरोक्त दोनों कैप्सूल सेवन करने के अतिरिक्त भोजन करने के बाद उपरोक्त दोनों पेय सेवन करने का निर्देश दें। कैप्सूल तथा पेय प्रयोग कराने से पीड़ित रोगी मानसिक, शारीरिक तथा स्नायुविक तौर पर भी शक्तिशाली हो जाता है। लिंग में भी आशातीत शक्ति का संचार हो जाता है।

6. शिलाजीत , भीमसेनी कपूर , बंग भस्म , प्रवाल भस्म , चांदी के वर्क , गुड़ची सत्व।

यह नपंुसकता-नामर्दी को नष्ट करने वाला योग है। इसका प्रभाव लिंग पर भी पड़ता है। रोगों की शक्ति बढ़ जाने पर रोगी के चेहरे पर रौनक एवं कांति उत्पन्न हो जाती है। दूध के साथ रोगी को प्रयोग कराना अधिक हितकर साबित होता है।

7. मूसली पाक , स्पे. च्यवनप्राश , फलकल्याण घृत ।
उपरोक्त तीनों औषधियां अतिशय गुणकारी होती हैं। इनका प्रभाव सर्वोत्तम शक्तिशाली तथा उच्चकोटि का होता है।

यह योग नपुंसकतानाशक अपूर्व शक्ति प्रदान करने वाला है। इसके प्रयोग से लिंग भी कठोर तथा सबल होने लगता है।

यह भी पढ़ें:सेक्स के लिए सही उम्र Right Age For Sex

8. तालमखाना , सेमल मूसली , गोखरू , शतावर , केवांच के बीज की मींगी , गुल सकरी, बरियार के बीज ।

यह चूर्ण दिन में 2 बार अथवा आवश्यकतानुसार सेवन करने का रोगी को निर्देश दें। गाय के दूध के साथ रोगी को प्रयोग कराना हितकर सिद्ध होता है। यह योग अपूर्व शक्ति प्रदान करता है। इसके प्रयोग से नपुंसकता नष्ट हो जाती है। लिंग की दुर्बलता-कमजोरी का भी अंत हो जाता है। यह लिंग को सबल, मजबूत और शक्तिशाली बना देने वाला योग है। इस औषधि से यौवन हार्मोन्स का स्राव भी इस योग से बढ़ने लगता है।

9. पूर्णचन्द्ररस वृहद् स्वर्णयुक्त, बंगेश्वर रस वृहद स्वर्णयुक्त ।
उपरोक्त दोनों औषधियां अतिशय गुणकारी सिद्ध हैं। दोनों औषधियां नपुंसकता-नामर्दी का नाश करके रोगी को सक्षम-समर्थ बना देती हैं। इनके प्रयोग से बलवीर्य बढ़ता है। चेहरे पर कांति उत्पन्न हो जाती है। लिंग भी कठोर शक्तिशाली हो जाता है। रोगी को मैथुन तृप्ति प्राप्त होती है।

10. असगंध , दूब , सेंधा नमक , बकरी का दूध , घी ।

यह लिंग पर मलने के लिए दिया जाता है। इसका प्रभाव सर्वोत्तम शक्तिशाली होता है। यह लिंग को कठोर व सबल बना देता है। रोगी को मैथुन तृप्ति प्राप्त होती है। लिंग लंबा मोटा करने की आयुर्वेदिक दवा

यह भी पढ़ें:ये चीजें आपको बना सकती हैं नपुंसक

लिंग की लंबाई में कमी सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या के समाधान व सलाह के लिए नीचे व्हाट्स-ऐप के बटन पर क्लिक करें |

Whatsapp Usस्त्री व पुरुष दोनो के गुप्त रोगों का इलाज किया जाता है :

पुरुष के रोग: नामर्दी, सुप्न्दोश, धात, वीर्य का पतलापन, लिंग का सही विकास ना होना, नसों का ढीलापन, लिंग से खून या पीप आना, शुक्राणु की कमी, शुगर से आई हुई कमजोरी, बचपन की गलतियो से आई कमजोरी, सेक्स टाइम में कमी आदि।

स्त्री के रोग: लुकोरिया, पीरियड का सही समय पर ना आना, गर्भवती ना होना, बच्चे का अधूरे गिरना, सेक्स की इच्छा ना होना आदि।

डी. एन. एस. आयुर्वेदा क्लिनिक, लखनऊ

9918584999

दवाई फोन पर घर बैठे भी मंगवा सकते हैं।

10 Comments

  1. कमल कान्त मीणाsays:

    मेरा लिंग को कम से कम तीन इन्च और लम्बा और बढाना चाहता हूँ और एक इन्च मोटा और मोटा होना चाहिए

  2. अभी मेरा लिंग.6.इंच लंबा.ओर डेढ़ इंच मोटा है और अब मे इसे.16.इंच लंबा और.3.इंच मोटा करना चाहता हूँ तो आप इसकी कोई दवा बताऐ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *