Penis में तनाव काम आने पर क्या करें | Penis Erection Problem

0
46 views
Penis, नपुंसकता की दवा, Napunsakta ki dawa, Erectile Dysfunction Medicine

पुरुषों के प्राइवेट पार्ट यानी लिंग penis में तनाव लाने के लिए इस दवा का प्रयोग किया जा सकता है या फिर कुछ खास तरीके अपनाए जा सकते हैं। आइये हम बताते हैं कौन-कौन हैं वो उपाय

सेक्स के दौरान लिंग ( Penis ) में पूरी मजबूती न होने या इरेक्ट होने के बाद भी कठोरता न आने की वजह से तमाम पुरुष काफी परेशान रहते हैं। क्योंकि अधिकतर फीमेल पार्टनर इसी गड़बड़ी की वजह से संतुष्ट नहीं हो पाती हैं।

Also read : Shighrapatan ka gharelu ilaj | शीघ्रपतन का घेरलू इलाज

इसकी दवा आप आप लखनऊ में हमारी क्लीनिक व दावाखाने में सम्पर्क करके मंगवा सकते हो। मात्र 1800 में एक महीने की दवा दी जाती है। हमारी आयुर्वेद क्लीनिक का व्हाट्सप हेल्पलाइन नम्बर ये है 91-9918584999 आप नीचे व्हाट्सप पर क्लिक करके उनसे सलाह व दवा ले सकते हो।

डॉक्टर साहब अभी व्हाट्सप्प पर ऑनलाइन है।  अभी नीचे व्हाट्सप्प पर क्लिक करके अपनी पूरी प्रॉब्लम बताये और अपना सही इलाज पता करें

Whatsapp Us, gupt rog

Call Now, gupt rog

पेनिस / Penis में तनाव लाने के लिए क्या किया जाए ? What to do for penis erection ?

क्या कोई ऐसी दवाएं या तरीके हैं तो वाकई में प्राइवेट पार्ट को मजबूती दे सकें।

2 चीजों पर निर्भर करता है लिंग / Penis में तनाव :

पेनिस में पूरी तरह से तनाव का आना दो चीजों पर निर्भर करता है एक मानसिक स्थिति और दूसरी शारीरिक स्थिति। विचारों से, ख्यालों से और स्पर्श यानी छूने से दिमाग में सेक्स का सेंटर उत्तेजित होता है जिससे पूरे बदन में खून का बहाव तेज होता है, और लिंग में कुछ ज्यादा बहाव होता है। नतीजन, उसमें उत्तेजना आती है।

लंबी-लंबी सांसें लेनी चाहिए :

इसके लिए सही हॉर्मोन और सही माहौल की जरूरत पड़ती है। इसका मतलब यह हुआ कि इस तंत्र प्रणाली में अगर कहीं भी गड़बड़ हुई तो लिंग के तनाव में कमी आ सकती है। खासतौर पर एक बार फेल हो जाने के बाद, दोबारा फेल हो जाऊंगा, यह डर आदमी के मन में घर कर जाता है और आइंदा जब भी वह सेक्स की कोशिश करता है तो उसके दिमाग में यह बात आ जाती है कि अगर मैं नहीं कर पाया तो। ऐसे नेगेटिव ख्याल आएं तो उस वक्त आदमी को लंबी-लंबी सांसें लेनी चाहिए।

छुटकारा पाने के लिए करें ऐसा :

अगर पुरुष के पेनिस में एक अवस्था में सही उत्तेजना आती हो (उदाहरण के लिए सुबह के समय, पेशाब करते वक्त, नींद में या मास्टरबेशन के वक्त) पर दूसरी अवस्था में उत्तेजना न आती हो तो समस्या मानसिक होती है शारीरिक नहीं। अगर समस्या शारीरिक होगी तो तनाव की कमी हर अवस्था में महसूस होगी। जब भी नेगेटिव ख्याल मन में आएं, उस वक्त एंग्जाइटी या तनाव पैदा हो जाता है जिससे छुटकारा पाने के लिए धीरे-धीरे लंबी सांसें लेना एक उपाय है। इससे किसी भी प्रकार की एंग्जाइटी कई बार अपने आप कम हो जाती है।

Also read : Sheeghrapatan ka ilaj | शीघ्रपतन का इलाज | Premature Ejaculation treatment

आयुर्वेद से भी इसमें फायदा हो सकता है लेकिन आयुर्वेद में व्यक्ति का वात, पित्त या कफ दोष देखकर उसे समझकर उसको संतुलन में लाया जाता है। लेकिन इसमें इलाज लंबे समय तक चल सकता है। आयुर्वेद में बताया गया है कि जो पूरे शरीर के लिए अच्छा वह सेक्स के लिए भी अच्छा होता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here